Friday, May 9, 2014

शोर

जब शोर में बातोँ कि आदत हो,
तो ख़ामोशी को ज़ुबाँ क्यों दे।  

No comments :