Skip to main content

Posts

Showing posts from November, 2014

तुम से मिले

तुम से मिले है साल कुछ गुज़रे,
कुछ तीन - चार से षण भर,
बंजर ज़मीन को छू लिया हो,
बारिश ने जैसे षण भर.