Thursday, May 9, 2013

Zindagi

चल खोल मन की खिड़की, 
अब छोड़ लेना सिस्की,
ले हाथों में व्हीस्की (whiskey) ,
एक टशन उड़ा

मन पे डाल जादू टोना,
चल छोड़ तु अब रोना,
सपना  टूटे या खिलौना,
एक टशन उड़ा

कानों में डाल मन का गीत,
बजने दे ओन रिपीट,
लेट इट स्विंग टू अ बीट,
एक टशन उड़ा

अब छोड़ बोर होना,
है खुद के मन को मोहना,
जैसे चाय में बिस्कुट डुबोना,
एक टशन उड़ा

(रोज़ मर्रा की ज़िन्दगी से स्वयं को प्रेरित करने का एक हास्य प्रयास)             

No comments :