Thursday, January 23, 2014

एक अजनबी दरार सी

किस्मतों कि बारिशें,
धुली धुली सी आहटें,
गरजती हैं जब धड़कने,
दरवाज़ों कि तकरार सी,

छीटें गिरी दीवार पे,
ख्वाब जो बादल हुए, 
उमढ के सांस निकल पड़ी,    
दीवार में दिख पड़ी, एक अजनबी दरार सी 

( प्रयास कि आंधी में, हौसले कि बारिश ज़रूर आती है ) 

 


No comments :